TALLY COMPANY FEATURES

Tally Company Feature

अगर आप टैली पर काम कर रहे है। लेकिन आपकों कभी-कभी ये समस्या आती है, कि टैली में कौन-कौन सी Settings कहाॅंं पर है, और किसके इस्‍तेमाल करने पर क्‍या होता है। तो आज हम इसी बारे में जानेगे कि के Tally features settings क्या है, तथा टैैली में इनका क्‍या उपयोग होता है। इन सभी के बारे में विस्तारपूर्व जानेगे।
Tally.ERP9 के Company Features में जो ऑप्‍शंस है, वो आपके फाइनेंशियल रिकॉर्ड्स को, आपके बिजनेस की जरूरत के हिसाब से मेंटेन करने की क्षमता प्रदान करते है।

Tally में मुख्‍य रूप से उपयोग में आने वाले 3 तरह के Features  होते है। आइये इन सभी Features के बारे में विस्तारपूर्व जाने।

  1. Accounting Features
  2. Inventory Features
  3. Statuary Features

Accounting Features

सबसे पहले हम Accounting Features की सभी settings के बारे में जानेगे। Accounting Features में जाने के Company ओपन करने के बाद लिए F11 बटन दबाने के बाद F1 बटन दबाऍं।

Accounting Features

General

  • Maintain Account only – आपको अगर सिर्फ अपने accounts को maintain करना है तो इस setting का use कर सकते है। इसे Enable करने पर Purchase करते समय Item Quantity और Item Rate नही आयेगा सिर्फ Invoice Rate और Amount आयेगा।
  • Integrate Accounts and Inventory इसके जरिये आप Accounts और inventory दोनो ही सेटिंग्स को एक साथ integrate कर सकते है। Stock या Inventory Balance को इन्वेंट्री रिकॉर्ड से शामिल करने के लिए हां विकल्प चुनें।
  • Use Income and Expenses Account Instead of Profit and Loss A/Cयदि  इसे हम  पर सेट करते है तो profit and loss a/c की जगह Income & Expenses बनेगे। यह हमेशा डिफॉल्‍ट रूप से No पर ही सेट होती है।
  • Enable multi-currency अगर हम Tally में रूपये के अलावा किसी और में सौदा करते है तो इस feature को enable कर सकते है।

Outstanding Management

  • Maintain bill wise Details इस फीचर को यस करने पर लेनदार व देनदार में Maintain Balance bill by bill Active हो जाएगा। जिससे Purchase और sell के समय बिल का रिफ्रेश मिलता है।
  • Active interest calculation अगर आपको टैली में interest calculation feature को active करना है तो आप इस setting को on या off कर सकते है।

Cost/Profit Centre Management

  • Maintain payroll – अगर आपको टैली में Salary Payroll को Manage करना है तो Payroll को Active कर सकते है।
  • Maintain cost center इससे आप विभिन्‍न Cost center की जानकारी अलग अलग कर सकते है।  Cost center और job costing से संबंधित सभी settings यहाँ से कर सकते है।

    • Use Cost Center for job Costingकिसी एक प्रोजेक्‍ट से होने वाली इनकम और एक्‍सपेनसेस को पता करने के लिए इस विकल्‍प को यह करते है।

    • Maintain More then One Payroll/Cost Categoryएक से ज्‍यादा Payroll/Cost Category के लिए इस विकल्‍प को Yes करेगे।

    • Show Per Defined Cost Center allocation During Entry – पहले से बने Cost Centerको Allocate करने के लिए इस विकल्‍प को yes करेगे।

Invoicing

  • Enable invoicing – Invoice Format में Sales and Purchase vouchers बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगें।

    • Record purchases in invoice modePurchase vouchers class में voucher option को Enable करने के लिए इस विकल्प को Yes करें।

  • Use Debit and Credit Notes – डेबिट नोट और क्रेडिट नोट वाउचर का उपयोग करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगें।

    • Record Credit Notes in Invoice Mode – Invoice Mode में क्रेडिट नोट्स बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगें।

    • Record Debit notes in invoice mode – Invoice Mode में डेबिट नोट्स बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Budget and Scenario management

  • Maintain Budget and Control – कई सारे बजट बनाने के लिए इस विकल्प को करेगें।  Gateway of Tally > Masters Info. > Accounts Info.


  • use reserving journal and optional Vouchers Accounts Info. menu में Scenario option प्रदर्शित करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे। मेन्यू । आप Scenario बना और उसे बदल भी सकते हैं। आप एक Scenario जर्नल को रिकॉर्ड कर सकते हैं और इसे वैकल्पिक बना सकते हैं ताकि entries books को प्रभावित न करें।

Banking Features

  • Enable Cheque Printing – चेक प्रिंटिंग का उपयोग करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Set/Alter Transaction Types – लेन-देन के types को बदलने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Set/Alter Banking Features – बैंकिंग features को बदलने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Set/Alter Post-Dated Transaction Features –  पोस्ट-डेटेड (पिछली तिथि में) लेनदेन रिकॉर्ड करने और संबंधित रिपोर्ट को देखने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Others Features

  • Enable Zero Value Transaction – Vouchers में  Zero-Valued लेनदेन के लिए के लिए इस विकल्प को सक्षम करें। जैसे कि किसी वस्‍तु के साथ जब हम कोई चीज मुफ्त में दे रहे हो तो इसके लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Maintain Multiple and Mailing Details for Company and Ledgers– अपनी company और ledger के लिए कई mailing details को बनाए रखने तथा व्‍यवस्थित करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Enable Company logo – आप यहाँ से अपनी company का logo आसानी से लगा सकते है।


  • Mark Changed Vouchers – Mark change vouchers को आप टैली में इस setting के जरिये use कर सकते है।

Inventory Features All Settings Explain

अब हम Inventory features की सभी settings के बारे में विस्तार से जानते है। Inventory Features में जाने के Company ओपन करने के बाद लिए F11 बटन दबाने के बाद F2 बटन दबाऍं।

Inventory Features

General

  • Integrate Accounts and Inventory – अपने books of accounts के साथ साथ अपने स्टॉक या इन्वेंट्री को maintain रखने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Enable Zero Value Transaction – Vouchers में  zero-valued लेनदेन के लिए के लिए इस विकल्प को सक्षम करें। जैसे कि किसी वस्‍तु के साथ जब हम कोई चीज मुफ्त में दे रहे हो तो इसके लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Storage and classification

  • Maintain multiple Godowns – यदि आपके पास एक से अधिक स्टॉक स्टोरेज स्थान या गोदाम हैं, और आप इन स्थानों पर स्टॉक movement  को ट्रैक करना चाहते हैं, तो इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Maintain Stock Category – stock categories को maintain करने के लिए और create करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Maintain batch-wise details – स्टॉक आइटम से संबंधित बैच जानकारी बनाए रखने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे। इस विकल्प को Yes में सेट करने से यह Stock Item Creation screen. में Maintain in Batches field में Show करता है।


  • Use Separate Actual and Billed Quantity Columns – invoicing करते समय दी गई delivered/received की गई राशियों से भिन्न मात्रा specify करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Order Processing

  • Enable Purchase Order Processing – Purchase Orders बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे। इस सुविधा का उपयोग purchase orders को pre-closure करने के लिए भी किया जा सकता है।


  • Enable Sale Order Processing – sales orders बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Enable Job Order Processing – Job Work Out or Job Work In order बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Invoicing

  • Enable Invoicing invoice format में Sales and Purchase vouchers बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Record Purchases in Invoice Mode – Purchase vouchers class में voucher option को Enable करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Use Debit and Credit Notes – डेबिट नोट और क्रेडिट नोट वाउचर का उपयोग करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगें।

    • Record Credit Notes in Invoice Mode – invoice mode में क्रेडिट नोट्स बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगें।

    • Record Debit Notes in Invoice Mode – invoice mode में डेबिट नोट्स बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

  • Use Separate Discount Column Invoice – अगर टैली में आपको invoice  में अलग से discount column को add करना है तो आप इस इस विकल्प को Yes करेगे।

Purchase Management

  • Track Additional Cost of Purchase – Expenses के लिए अलग-अलग debit ledger की आवश्यकता के बिना purchase costs का break-up प्राप्त करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Sale Management

  • Use Multiple Price level – Multiple price level बनाने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।

Other Features

  • Use Tracking Numbers (Enable Delivery and Receipt Notes) – Delivery notes और invoices के बीच relation बनाए रखने के लिए ट्रैकिंग नंबरों का उपयोग करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे। यह purchases और sales दोनों के लिए available है।


  • Use Rejection Inward and Outwards Notes – सामानों की rejection को अलग से दर्ज करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे। यह सामान्य डेबिट नोट या क्रेडिट नोट के जैसा नहीं है।


  • Use Material in and Out Vouchers – पार्टी के प्रति item quantity के transfer को रिकॉर्ड करने और एक Godown/Location से दूसरे में material transfer करने के लिए इस विकल्प को Yes करेगे।


  • Use Cost Tracking for Stock Items – किसी आइटम में शामिल लागत को analyse करने के लिए इस विकल्प Yes करेगे।

Statutory Features All Settings Explain

Statutory Features की सभी settings के बारे में विस्तार से जानते है। Statutory Features में जाने के Company ओपन करने के बाद लिए F11 बटन दबाने के बाद F3 बटन दबाऍं।

Statutory and Taxation
  • Enable Goods and Service Tax(GST)अगर आपको जीएसटी को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से जीएसटी को enable कर सकते है।

    • Set/Alter GST Details इस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित जीएसटी details को set कर सकते है।

  • Enable Value Added Tax (VAT)अगर आपको VAT(Value added Tax) को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से VAT को enable कर सकते है मगर जब से जीएसटी भारत मे आया है अब हमको VAT की जरूरत नहीं है।

    • Set/Alter VAT Details इस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित VAT की सभी details को set कर सकते है।


  • Enable Exciseअगर आपको Exise को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से Exise को enable कर सकते है।

    • Set/Alter Excise Detailsइस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित Exise की सभी details को set कर सकते है।


  • Enable Service Tax अगर आपको Service Tax को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से Service Tax को enable कर सकते है

    • Set/Alter Service Tax Details इस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित ServiceTax की सभी details को set कर सकते है।


  • Enable tax deducted at source (TDS)अगर आपको TDS को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से TDS को enable कर सकते है।

    • Set/Alter TDS Detailsइस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित TDS की सभी details को set कर सकते है।


  • Enable Tax Collection at the Source (TCS)अगर आपको TCS को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से TCS को enable कर सकते है।

    • Set/Alter TCS Details इस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित TCS की सभी details को set कर सकते है।


  • Enable Payroll Statutoryअगर आपको Payroll को enable करना है तो आप इस Option मे जाकर बहुत ही आसानी से Payroll को enable कर सकते है

    • Set/Alter Payroll Statutory Details इस setting मे आप अपनी कंपनी से संबन्धित Payroll की सभी details को set कर सकते है।

  • PAN/Income Tax No अगर आपको अपनी कंपनी का PAN/Income tax no को भरना है तो आप इस setting मे जाकर सभी details को भर सकते है।


  • Company identity no (CIN) अगर आपको अपनी कंपनी का CIN को भरना है तो आप इस setting मे जाकर सभी details को भर सकते है।

NOTE:- आपको ये पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें। हमें आपके कमेंट्स का बेसब्री से इन्तजार रहेगा है। अगर आपका कोई सवाल या कोई suggestions है तो हमें बतायें, और हाँ पोस्ट शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.