एक्सेस Objects के प्रकार

MS Access Objects Types

MS Access में डेटाबेस उस बाॅक्‍स की तरह है जिसमें सारा डेटा अंदर सुरक्षित रखता है। MS Access में टेबल, फॉर्म, रिकॉर्ड इत्यादि को डेटाबेस ऑब्जेक्ट कहते हैं। जिसमें आप सूचनाओं का संग्रह कर सकते हैं।MS Access में प्रत्येक डेटाबेस को एक सिंगल फाइल में रखा जाता है। अगर आपको डेटाबेस के अंदर से कोई सूचना प्राप्‍त करना चाहते हैं तो आपको कुछ स्टेप फॉलो करने पड़ते है जिसके बाद आप आपकी सूचना को प्राप्‍त कर सकते हैं। सामान्यतः डेटाबेस के अंदर डाटा को एक टेबल के अंदर रखा जाता है। ये टेबल बहुत जटिल और बड़े हो सकते हैं।

MS Access Objects

Type of Objects In Access

  1. Tables 
  2. Queries 
  3. Forms 
  4. Reports 
  5. Macros 
  6. Modules 

Tables

टेबल का प्रयोग डाटा स्‍टोर करने के लिए किया जाता है। एक डाटाबेस में एक से अधिक टेबल हो सकती हैं। सिर्फ टेबल ही ऐसी जगह है जहॉं डाटाबेस का का वास्‍तविक डाटा स्‍टोर रहता है। अलग-अलग तरह कि सूचनाओं को संग्रहित करने के लिए आप जितने चाहें उतने टेबल बना सकते हैं।

Form

फॉर्म एक विंडो की तरह होता है जैसा की आपने ऑनलाईन फार्म भरते वक्‍त देखा होगा। फार्मों का प्रयोग टेबल में डाटा डालने व उसे बदलने के लिए किया जाता हैं। फार्म का प्रयोग एक बार में एक रिकार्ड देखने के लिए भी होता है। फाॅर्म को आप खुद भी डिजाइन कर सकते हैं, रंग-रूप बदल सकते हैं और व्यवस्थित कर सकते हैं। डेटाबेस के अंदर कि सूचनाओं को देखने और उनमे बदलाव करने के लिए फॉर्म एक अच्छा जरिया होता है।

Queries

टेबल का डाटा फिल्‍टर करने के लिए क्‍वेरी बनाई जाती हैं। इससे केवल चुने गये रिकार्ड तथा फील्‍ड ही टेबल से प्राप्‍त किये जाते हैं। साधारणत: क्‍वेरी यूजर के प्रश्‍नों का उत्‍तर देती हैं। जो जानकारी के रूप में होता हैं। जैसे हमारे पास एक टेबल है जिसमे लोगों के पते और फोने नम्बर हैं और हम किसी ख़ास एरिया में रहने वाले लोगों के नम्बर निकालना चाहते हैं, तो हम क्‍वेरी का उपयोग कर सकते हैं।

Reports

रिपोर्ट का प्रयोग आवश्‍यक जानकारी का प्रोफेशनल प्रेजेन्‍टेशन बनाने के लिए किया जात है। बनाई गई रिपोर्ट को हार्ड कॉपी पर प्रिंट करके विश्‍लेषण के लिए प्रयोग किया जा सकता हैं।

Macros

डाटाबेस में बार-बार किए जाने वाले कार्यों को मैक्रो द्वारा ओटोमेट किया जा सकता हैं। ये किसी कार्य को करने का छोटा व आसान तरीका हैं। बार-बार किए जाने वाले स्‍टैप मैक्रो के रूप में रिकार्ड किए जाते हैं।

Modules

इसके अंदर वो फाइल होते हैं जो विसुअल बेसिक कोड के रूप में रखी जाती हैं। आप इन कोड का इस्तेमाल करके किसी भी तरह के कार्य को करने के लिए कर सकते हैं। जैसे कई सारी रिपोर्ट को अपलोड करने के लिए। यह प्रोगामिंग लैग्वेस संबंधित हैं।

NOTE:- आपको ये पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें। हमें आपके कमेंट्स का बेसब्री से इन्तजार रहेगा है। अगर आपका कोई सवाल या कोई suggestions है तो हमें बतायें, और हाँ इस पोस्ट को अपने दोस्‍तों के साथ शेयर जरूर करें।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.